नए भारत की नई तस्वीर दिखलाता है योग(naye bharat ki nayi tashvir dikhlata hai yog)

#kavitabahar, # indurani,#21 June yoga divas, # yoga based poem,# hindi kavitaनए भारत की नई तस्वीर दिखलाता है योग,मन मस्तिष्क स्वस्थ रहेकाया बने निरोग।समझें हम योग महत्वरहे दवाई दूर,आया दौर…

0 Comments

मजदूरी (majdoori par kavita)

मजदूरी ************************जिंदगी पूरी लिख दी मजदूरी के नाम,वाह वाही औरों की करते वो पूरा काम।।दबे,लाचार,शोषित ठेकेदारों के हाथ,मिलती सूखी रोटी ध्याडी का बस नाम।धूप मे तपता नर है और भट्टी…

0 Comments

महादेवी वर्मा (chhayavaad yug ki devi)

*******************हिंदी मंदिर की सरस्वती,तुम हिंदी साहित्य की जान।छायावादी युग की देवी,महादेवी महिमा बड़ी महान।।दिया धार शब्दों को,हिंदी साहित्य है बतलाता।दिव्य दृष्टि दी भारत को,साहित्य तुम्हारा जगमगाता।।प्रेरणास्रोत कलम की तुम,हो दर्पण…

0 Comments

नारी का जीवन

शीर्षक - नारी का जीवनविधा   - कविता*******************बँधा पड़ा नारी का जीवन,सुबह से ले कर शाम।एक चेहरा किरदार बहुत,जिवन में नही विश्राम।।बेटी,बहन ,माँ और पत्नी,बन कर देती आराम।दिखती सहज,सरल पर,लेकिन होती…

0 Comments

दुनिया का हर इंसान

शीर्षक - दुनिया का हर इंसानविधा।  - कवितादुनिया का हर इंसान,    अपने मे है परेशान।बैठा ऊँची पोस्ट पर,     पर खोता चैन अमान।।ढूढ़ता दूजे मे,      चाहत का नया जहान।खोता सा है…

0 Comments

नारी सशक्तिकरण

शीर्षक - नारी सशक्तिकरणविधा।  - कविता*************बन ऐसी तू धूल की आँधी,जिसमे सब कुछ उड़ जाए।तुझे तो क्या कोई तेरे चिर को,भी ना हाथ लगा पाए।अपने कोमल तन-मन पे तू,खुद ही…

0 Comments

राधे-बसंत.

शीर्षक - राधे-बसंत.नटखट नंदलाला,नैन विशाला,कैसो जादू कर डाला।फिरे बावरिया,राधा वृंदावन,हुआ मन बैरी मतवाला।।ले भागा मोरे हिय का चैना,वो सुंदर नैनो वाला।मोर मुकुट,पीताम्बर ओढ़े,कमल दल अधरों वाला।।अबके बसंत,ना दुख का अंत,बेचैन…

0 Comments

बापू जी

विषय - बापू जीविधा - कविता*************************बापू जी ओ बापू जीबच्चों के प्यारे बापूजी।सत्य,अहिंसा,परमो धर्मराम पुजारी बापू जी।मात्र एक लाठी के बूतेगोरों को हराया बापूजी।।असहयोग आंदोलन के साथीकर के सीखो,सिखलाया बापूजी।देख…

0 Comments

वह भारत देश कहलाता है

है विविधताओं मे एक जहाँ, वह भारत देश कहलाता है।हिन्दु ,मुस्लिम, सिख ,ईसाई जहां, आपस मे भाई-भाई का नाता है।जहाँ हाथों मे हाथ डाले सब झूमें,वहाँ तिरंगा नभ में लहराता है।मिल…

0 Comments