मंजूर नहीं

संघर्षों में ही काटूंगा मैं अपना सारा जीवन क्योंकि मुझे किसी तरह से भी किसी रूप में भी किसी कारण वश भी कदम दर कदम पर समझौता करना मुझे मंजूर…

0 Comments

हकीकतों से

परिवर्तन के इस दौर में मैं एक ऐसे मोड़ पर खड़ा हूं जहां से मुझे एक निर्णायक निर्णय लेना है परंतु कुछ निर्णय लेने के पूर्व उन हकीकतों से भी…

1 Comment

शबनम की चमक

शबनम की चमक हमारे तुम्हारे मधुर रिश्तों की गंध लिए होती है मानो तो ये सच है गर न मानों तो ये ही शबनम पानी का कतरा मात्र होती है।।।

0 Comments

संघर्ष का प्रतिफल

मुझे मेरी संघर्ष गाथा से बेहद लगाव है प्यार है वो इसलिए कि मैं वर्तमान में जो कुछ भी हूं वो मेरे संघर्ष का ही प्रतिफल है संघर्ष के कारण…

0 Comments

उम्मीद के दिये

अपनेपन में खोये हुए हम खोजते हैं उम्मीद के दिये जो हमें आशारूपी उजाले के साथ हमें एक नई रोशनी दे सकें अपने सुखद जीवन के लिए

0 Comments

“”संबंध””

संबंध सिर्फ हमें अपनों से जोड़ने वाली कड़ी का नाम नहीं है ये तो वो संबंध है जो सदैव हमारे बीच एक सेतु सा कार्य करता है अनेक संबंधों के…

0 Comments

“”उपदेश””

सोच रहें हैं कि हम कुछ उपदेश दे सबको पर कैसे क्या हमारा उपदेश कोई शिरोधार्य करेगा क्योंकि पर उपदेश देने से पहले हमें स्वयं उनको अपनाना होगा तब कहीं…

0 Comments

“धीरे धीरे”

बिखरती हुई जिंदगी वीरान सी राहें समय गुजर रहा है धीरे धीरे हम अपने अस्तित्व की तलाश में निकल पड़े उन राहों पर मन विचलित है उदास है फिर भी…

0 Comments

“मजबूरी”

मजबूरी इंसान को क्या से क्या बना देती है कही ऊपर उठाती है तो कही झुका देती है इन्ही के चलते इंसान अपनी मजबूरी के चलते एकदम हताश हो जाता…

0 Comments