KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी पर कविता

"बापू" ( राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी पर कविता ) Mahatma gandhi सत्य अहिंसा के तुम ही पहरेदार हो बापू,आजादी दिलाने वाले बड़े सरदार हो बापू। हर बच्चा

बस एक पेड़ ही तो काटा है -नदीम सिद्दीकी

बस एक पेड़ ही तो काटा है बस एक पेड़ ही तो उखाड़ा है साहब!अगर ऐसा न हो तो बस्तियां कैसे बसेगी?प्रगति,तरक्की,ख़ुशयाली कैसे आएगी? हमें आगे चलना है,पीछे नहीं