KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR
Browsing Category

साहित्यिक कक्षा

कहानी कैसे लिखें

कहानी, हिन्दी में गद्य लेखन की एक विधा है। उन्नीसवीं सदी में गद्य में इस नई विधा का विकास हुआ .कहानी कैसे लिखें यहाँ इस बात की जानकारी दी जा रही है

लघुकथा कैसे लिखें

लघुकथा-विधा हिन्दी गद्य साहित्य की ऐसी विधा है, जिसमें कम से कम शब्दों में एक गहरी बात कहना होता है जिसको पढ़ते ही झटके से पाठक मन चिंतन के लिए…

चतुष्पदी (मुक्तक) क्या है ? इसके लक्षण व उदाहरण

चतुष्पदी (मुक्तक) क्या है ? इसके लक्षण व उदाहरण चतुष्पदी (मुक्तक)--- समान मात्राभार और समान लय वाली रचना को चतुष्पदी (मुक्तक) कहा गया है ।…

छंद क्या है? इसके प्रमुख अंगों को जानिए

सामान्यतः लय को बताने के लिये छन्द शब्द का प्रयोग किया गया है। यह अंग्रेजी के 'मीटर' अथवा उर्दू-फ़ारसी के 'रुक़न' (अराकान) के समकक्ष है। छंद क्या…

सूर घनाक्षरी -बाबूलालशर्मा ‘विज्ञ’

घनाक्षरी छंद विधान:सूर घनाक्षरी -बाबूलालशर्मा 'विज्ञ' सूर घनाक्षरी विधान ३० वर्ण(८८८६) प्रतिचरणचार चरण समतुकांतचरणांत की कोई शर्त नहीं है। …

हरिहरण घनाक्षरी -बाबूलालशर्मा ‘विज्ञ’

घनाक्षरी छंद विधान: हरिहरण घनाक्षरी -बाबूलालशर्मा 'विज्ञ' हरिहरण घनाक्षरी विधान ३२ वर्ण( ८८८८) प्रतिचरणचार चरण समतुकांतआंतरिक समान्तता…

विजया घनाक्षरी -बाबूलालशर्मा ‘विज्ञ’

घनाक्षरी छंद विधान: विजया घनाक्षरी -बाबूलालशर्मा 'विज्ञ' विजया घनाक्षरी विधान ३२ वर्ण (८८८८) प्रतिचरणचार चरण समतुकांतआंतरिक समान्तता होचरणांत…

कृपाण घनाक्षरी -बाबूलालशर्मा ‘विज्ञ’

घनाक्षरी छंद विधान: कृपाण घनाक्षरी -बाबूलालशर्मा 'विज्ञ' कृपाण घनाक्षरी विधान ३२ वर्ण(८८८८) प्रतिचरणचार चरण समतुकांत८,८,८,८ पर यति हो, एवंचारो…