Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

दर्द के रूप कविता

0 154

दर्द के रूप कविता

स्वयं के दर्द से रोना,अधिकतर शोक होता है।
परायी-पीर परआँसू,बहे तो श्लोक होता है।

निकलती आदि कवि की आह से प्रत्यक्ष भासित है,
हृदय करुणार्द्र हो,तब अश्रु पर आलोक होता है।

CLICK & SUPPORT

धरा की,धेनुओं की,साधुओं की प्रीति-पीड़ा से,
हैं धरते देह ईश्वर,पाप-मुञ्चित लोक होता है।

 
—– R.R.Sahu
Leave A Reply

Your email address will not be published.