Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

हाँ ये मेरा आँचल-वर्षा जैन “प्रखर

0 129

हाँ ये मेरा आँचल

आँचल, हाँ ये मेरा आँचल
जब ये घूंघट बन जाता सिर पर
आदर और सम्मान बड़ों का
घर की मर्यादा बन जाता है

जब साजन खींचें आँचल मेरा
प्यार, मनुहार और रिश्तों में
यही सरलता लाता है
प्यार से जब शर्माती हूँ मैं
ये मेरा गहना बन जाता है

मेरा बच्चा जब लड़ियाये
आँचल से मेरे उलझा जाए
ममता का सुख देकर आँचल
हठ योग की परिभाषा बन जाता है

CLICK & SUPPORT

आँचल में समाती हूँ जब शिशु को
ये उसका पोषक बन जाता है
ले कर सारी बलाएँ उसकी
आँचल ही कवच बन जाता है

यौवन की दहलीज़ में आँचल
लज्जा  वस्त्र कहलाता है 
ढलता आँचल एक पत्नी का
समर्पण भाव दिखाता है

क्या  क्या उपमा दूँ मैं इसकी
बहू बेटी माँ पत्नी बहना
आँचल हर रूप सजाता है
आँचल हर रूप सजाता है ।


वर्षा जैन “प्रखर”
दुर्ग (छ.ग.)
कविता बहार से जुड़ने के लिये धन्यवाद

Leave A Reply

Your email address will not be published.