KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

हम भी दीवाने और तुम भी दीवाने

0 145

हम भी दीवाने और तुम भी दीवाने

इश्क में हो गये हम दीवाने
इश्क में हो गये हम वीराने
इश्क में दौलत क्या है ?
इसमें लुट गये सारे खजाने
इश्क में हो गये हम दीवाने
हम भी दीवाने और तुम भी दीवाने।।


शीरीं भी मर गयी मर गया फराद भी
लैला भी मर गई मर गया मजनू भी
मर जायें इश्क में हम भी
लिख जाये हम भी अपने फसाने
हम भी दीवाने और तुम भी दीवाने
हम भी वीराने ओ तुम भी वीराने।।


अगर एक आशिक को उसका
महबूब मिल जाए तो
इस जहाँ को एक और ताज मिल जाये
लगते हैं अब इश्क के किस्से पुराने
हम भी दीवाने ओ तुम दीवाने
इश्क में हो गये हम दीवाने।

-शादाब अली ‘हादी’

Leave a comment