KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

हमर सुघ्घर छत्तीसगढ़

0 209

हमर सुघ्घर छत्तीसगढ़

➖➖➖➖➖➖

एक ठन राज हवे सुघ्घर ,
नाम हे जेकर छत्तीसगढ़।।
राजधानी हवे सुघ्घर रायपुर,
हाईकोर्ट जिहां हे बिलासपुर।
दंतेवाड़ा में लोहा खदान!
ऊर्जा नगरी कोरबा महान।।
धमतरी में हवे बड़े गंगरेल बांध,
जम्मो झन के बचावय परान।।
जिहां चित्रकोट अउ हवे तीरथगढ़,
नाम हे जेकर छत्तीसगढ़ ।।

डोंगरगढ़ म मइया बम्लेश्वरी,
दंतेवाड़ा म मइया दंतेश्वरी।।
रतनपुर म मइया महामाया ,
जेकर कोरा हे हमर छतरछाया।
गरियाबंद के हवे बड़े राजिम मेला,
पैरी ,सोंढुर,महानदी के बोहवय रेला।
बड़े- बड़े पहाड़ के गढ़ ,हवे रामगढ़,
नाम हे जेकर छत्तीसगढ़।।

भिलाई इस्पात कारखाना के,
हवे काम महान,
जेन हवे दुरुग भिलाई के शान।।
कोरिया म हवे बड़े-बड़े कोयला खदान,
टिन म सुकमा के अव्वल स्थान।।
नारायणपुर के अबुझमाड़ ,
जेन छत्तीसगढ़ के पहिचान हे।
संगीत नगरी कहाये ,खैरागढ़।
वोकर पूरा एशिया में अब्बड़ नाम हे ।
जेकर बोली भाखा हवे मीठ अब्बड़,
नाम हे जेकर छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ के खजुराहो ,
भोरमदेव ल कहिथे।।
अरपा ,पैरी, महानदी के,
कलकल धार बहिथे।।
अइसन सुघ्घर राज म रहिके ,
अपन जिनगी ल गढ़।।

एक ठन राज हवे सुघ्घर,
नाम हे जेकर छतीसगढ़।।

रचनाकार
महदीप जंघेल ,

  • ग्राम – खमतराई, खैरागढ़

जिला राजनांदगांव

Leave a comment