KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

काश मेरा भी भाई होता !! रक्षाबंधन पर कविता

रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएँ ।। रक्षाबंधन पर बहन के तरफ से भाई के लिए प्रेम भावना प्रकट किया है ।।

0 630

काश मेरा भी भाई होता- रक्षाबंधन पर कविता

काश मेरा भी भाई होता !!
मैं भी रक्षाबंधन मनाती,
राखी को देख दिल कहता है,
कि काश मेरा भी भाई होता ।
काश मेरा भी भाई होता ॥

रक्षाबंधन के दिन सुबह ही उठती,
आरती की थाली सजाती।
राखी और मिठाई लेकर जाती,
भाई को राखी बाँधती ।
और कहती कि मेरा तोहफा दो ,
तोहफे को देख मुस्कुराती ।
और पुरे घर में झूम जाती ।।

राखी की थाली है सजाई,
बाॅधने के लिए नहीं मिली कलाई,
वैसे तो सब कहते हैं मैं हूँ तेरा भाई,
बनकर रहूँगा तेरी परछाई ,
पर फिर भी जाने क्यूँ यह बात है याद आई,
कि काश मेरा भी होता कोई अपना भाई ।
काश मेरा भी भाई होता ।।

भाई बहन के प्यार को देख ऑखे हो जाती है नम ,
लडाई झगड़ा सबसे करती हूँ बहुत कम ।
सभी भाई बहन को देख हो जाती हूँ गुम,
भाई दुज के दिन भी हो जाती हूँ नम ,
हर बार आता यही ख्याल;
काश मेरा भी भाई होता !!
काश मेरा भी भाई होता !!

रबिना विश्वकर्मा
[उ•प्र• ;; जिला जौनपुर ;; हथेरा (मोथूपुर)]
पिन: : 222128

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.