Send your poems to 9340373299

खुद से परिभाषित ना कर तू

HINDI KAVITA

0 520

खुद  से  परिभाषित ना  कर तू 

खुद   को   यूँ   खुद   से  परिभाषित   ना  कर  तू

मंज़िल  दूर  नहीं   खुद  को  वंचित   ना   कर  तू

रोड़े, ईंट, पत्थर, अड़चनें  बहुत  पड़े राहों में तेरे

मार ठोकर  सबको खुद को बस आरोहित कर तू

वक़्त  के   थपेड़े  तुझ   को  भी  कर  देंगे  अधमरे

इतिहास धुंधला पड़ा, खुद को बस अंकित कर तू

अंदर – ही – अंदर जलाता  क्यों तू, संग चराग़ के

हाथ उठा लपक चाँद, खुद को  प्रायोजित कर तू

CLICK & SUPPORT

कल का सूरज  किसने देखा है, रात  बहुत लम्बी है

अंदर कई प्रकाशपुंज तेरे, खुद को आलोकित कर तू

शून्य  ही  शून्य  बस आज  बिखरा  पड़ा  है  जहां में

छोड़  जहां  की  चिंता,  खुद  को आंदोलित  कर  तू

सूरज सर पर आएगा, साया तेरा भी सिमट जायेगा

साये  से  निकल  बाहर, खुद  को ना बाधित  कर तू

‘अजय’   है  तू,  खुद  को   परिभाषित  ना   कर तू

मंज़िल   दूर   नहीं,    खुद  को  वंचित   ना   कर  तू

—- अजय ‘मुस्कान’

Leave A Reply

Your email address will not be published.