KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

यदि आपकी किसी एक ही विषय पर 5 या उससे अधिक कवितायेँ हैं तो आप हमें एक साथ उन सारे कविताओं को एक ईमेल करके kavitabahaar@gmail.com या kavitabahar@gmail.com में भेज सकते हैं , इस हेतु आप अपनी विषय सम्बन्धी फोटो या स्वयं का फोटो और साहित्यिक परिचय भी भेज दें . प्रकाशन की सूचना हम आपको ईमेल के माध्यम से कर देंगे.

हिंदी संग्रह कविता-कोटि-कोटि कंठों ने गाया

0 111

कोटि-कोटि कंठों ने गाया


कोटि-कोटि कंठों ने गाया, माँ का गौरव गान है,
एक रहे हैं एक रहेंगे, भारत की संतान हैं।


पंथ विविध चिंतन नाना विधि बहुविधि कला प्रदेश की,
अलग वेष भाषा विशेष है, सुन्दरता इस देश की।
इनको बाँट-बाँटकर देखें, दुश्मन या नादान हैं। कोटि-कोटि


समझायेंगे नादानों को, सोया देश जगायेंगे।
दुश्मन के नापाक इरादे, जड़ से काट मिटायेंगे।
भारत भाग्यविधाता हम हैं,जन-जन की आवाज है। कोटि-कोटि


ऊँच-नीच निज के विभेद ने, दुर्बल किया स्वदेश को,
बाहर से भीतर से घेरा, अँधियारे ने देश को।
मिटे भेद मिट जाए अँधेरा, जलती हुई मशाल है। कोटि-कोटि


बदलेंगे ऐसी दिशा को, जो परवश मानस करती,
स्वावलंबिता स्वाभिमान से, जाग उठे अम्बर धरती।
पुनरपि वैभव के शिखरों पर बढ़ता देश महान है। कोटि-कोटि,

Leave A Reply

Your email address will not be published.