KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

Register/पंजीयन करें

Login/लॉग इन करें

User Profile/प्रोफाइल देखें

Join Competition/प्रतियोगिता में हिस्सा लें

Publish Your Poems/रचना प्रकाशित करें

User Profile

हिंदी ग़ज़ल-क्या भला रह जायेगा

इस ग़ज़ल के माध्यम से संसार की भंगुरता और अस्थिरता की बात की जा रही है।अपने कर्तव्ययों का निष्ठापूर्वक निर्वहण करके गीता के आप्त वचनों को अंगीकार करने एवं सवेदनशील रहने की बात की गई है।

0 26

क्या भला रह जायेगा

hindi gazal || हिंदी ग़ज़ल
hindi gazal || हिंदी ग़ज़ल

वो परिंदा, ये परिंदा, सब छला रह जायेगा
क्या बचा था,क्या बचा है,क्या भला रह जायेगा | १ |

एक दिन सारे ईमानों धर्म को भी बेचकर,
आदमी अंदर से केवल खोखला रह जायेगा । २।

आज का कोमल कमल जो खिल रहा है झील में,
कौन जाने कल को केवल अधखिला रह जायेगा।३।

वक्त के शायद किसी नाजुक गली या मोड़ पर,
हर कोई बस जिंदगी में एकला रह जायेगा।४।

स्मारकें बनकर कोई जो दिख रही ऊँची महल,
बाद में स्मृति चिन्ह वो भी धुंधला रह जायेगा ॥५॥

मानवों के हाथ की केवल कमाई कर्म है
अंत ईश्वर हाथ सारा फ़ैसला रह जायेगा।६।

Leave A Reply

Your email address will not be published.