KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

माँ गंगा पुकारे…

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

माँ गंगा पुकारे…

कलयुग के अत्याचारों को देख, माँ गंगा पुकारे….
वर्षों के पावन तप से , मैं इस धरती पर आयी।
पर आज मनुज ने देखो, मेरी कैसी गति बनायी।
निर्मल थी मैं मैली हो गयी, तुम सबके कुकृत्यों से।
कूड़े- कचरे और गंदे जल के, मोटे- मोटे नालो से।
याद करो त्रेतायुग के, उन महा-प्रतापी राजाओं को।
सगर, अंशुमान, और वीर दिलीप के आहुतियों को।
याद करो भगीरथ के ओ, कठिन तपस्या के रातों को।
त्राहि- त्रहि मचती धरती में, जन-मन के चीत्कारों को।
सहम गयी हूँ मैं देखो, अब सबका मैला ढोते ढोते।
समय अभी है उठो नींद से,वरना रह जाओगे सोते।
राह मोड़ दो गंदे नालों का,कूड़ा-कचरा सब साफ करो।
मैं जीवन दायनी गंगे हूँ ,कभी न तुम अपमान करो।
हरी-भरी धरती होगी, खुशियों से भर जाएगा जग सारा।
तब तुम दीप जला पूजा करना,और मनाना गंगा दशहरा।


रविबाला ठाकुर”सुधा”
स./लोहारा, कबीरधाम