मैं गलतियों पे गलती करता हूं -मनीभाई नवरत्न

मैं गलतियों पे गलती करता हूं ।
फिर चुपके से , छुपके आहें भरता हूंँ।
ये क्या हो जाता मुझे?
समझ में ना आता मुझे?
ना जाने मैं क्यों ? ऐसा करता हूँ

पहले अनजान था, अपने गलतियों से ।

सबक सीखा ये , मैंने सिर्फ तुमसे ।
जब तुम उदास होती ,
कुछ भी ना भाता मुझे ।
तेरी बेरुखी बड़ा, तड़पाता है मुझे।
मैं कैसे कह दूं कि तुमसे ,

आजकल कितना डरता हूं ?

ना जाने मैं क्यों ? ऐसा करता हूँ

मेरी खामोशियों की जुबान समझो ,
कहता है दिल मेरा, मुझे माफ कर दो!
मेरे सांसो में तुम ही , बस तुम हो
चाहो तो आजमा कर , जरा देख लो
रहने दो मुझे पास तेरे ,

तुमपे ही तो जीता मरता हूं ।

ना जाने मैं क्यों ? ऐसा करता हूँ

(Visited 7 times, 1 visits today)

मनीभाई नवरत्न

छत्तीसगढ़ प्रदेश के महासमुंद जिले के अंतर्गत बसना क्षेत्र फुलझर राज अंचल में भौंरादादर नाम का एक छोटा सा गाँव है जहाँ पर 28 अक्टूबर 1986 को मनीलाल पटेल जी का जन्म हुआ। दो भाईयों में आप सबसे छोटे हैं । आपके पिता का नाम श्री नित्यानंद पटेल जो कि संगीत के शौकीन हैं, उसका असर आपके जीवन पर पड़ा । आप कक्षा दसवीं से गीत लिखना शुरू किये । माँ का नाम श्रीमती द्रोपदी पटेल है । बड़े भाई का नाम छबिलाल पटेल है। आपकी प्रारम्भिक शिक्षा ग्राम में ही हुई। उच्च शिक्षा निकटस्थ ग्राम लंबर से पूर्ण किया। महासमुंद में डी एड करने के बाद आप सतत शिक्षा कार्य से जुड़े हुए हैं। आपका विवाह 25 वर्ष में श्रीमती मीना पटेल से हुआ । आपके दो संतान हैं। पुत्री का नाम जानसी और पुत्र का नाम जीवंश पटेल है। संपादक कविता बहार बसना, महासमुंद, छत्तीसगढ़

प्रातिक्रिया दे