hindi tanka || हिंदी तांका

मनीभाई की तांका

मनीभाई की तांका

नंद के लाला
ब्रज का तू गोपाला
है भोला भाला
भाये बांसुरी तेरी
छाये प्रेम घनेरी।।

-मनीभाई

मनीभाई की तांका - कविता बहार - हिंदी कविता संग्रह


●●●●●●●●●●
नाचते देखा
देव विसर्जन में
लोगों को
लिए फूहड़पन
डीजे केे तरानों में।
●●●●●●●●●●
मैं नहीं एक
मेरे रूप अनेक
मैं ही ना जानूँ 
मेरी हकीकत को
मुझसे मिला दे तू।
●●●●●●●●●●
मनीभाई ‘नवरत्न’

मनीभाई की ताकाँ

आता न कल
महाकाल विजेता
कर तो शुरू
अपना अभियान
लाना गर तूफान।

Please follow and like us:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page