KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook

@ Twitter @ Youtube

मनुष्य का मन- ताज मोहम्मद

प्रस्तुत हिंदी कविता का शीर्षक मनुष्य का मन जोकि ताज मोहम्मद है. इसे मानव जीवन को आधार मानकर रची गयी हैं”.

0 65

हिंदी कविता : मनुष्य का मन- ताज मोहम्मद

मनुष्य का मन…
कौतूहल में कितना शान्त अशान्त रहता है।
एक द्वंद सा…
सदैव उसके जीवन में स्वतः चलता रहता है।

कितना सरल जीवन होता है,
जो प्रारम्भ में मनुष्य को मिलता है।

मनुष्य आदि से अ से ज्ञ तक पढ़ता है,
इसी में उसका अतिरिक्त अनादि रचता है।

व्यक्ति स्वयं की त्रुटियों से,
जीवन को कितना कठिन बना देता है।
फिर…स्वयं के अतिरिक्त,
वह सभी पर दोष मढ़ता है।

सम्पूर्ण जीवन काल में…
मनुष्य चिंताओं की चिता में जलता है।
एक द्वंद सा…
सदैव उसके जीवन में स्वतः चलता रहता है।

हर पद ताल के जीवन में,
कर्तव्य कितने होते हैं।
सभी की आशाओं के अनुरूप,
मनुष्य जीवन कहाँ जीते हैं।

ना जानें भाग्य विधाता को,
क्या थी सूझी।
जो उसने जीवन में,
विपत्तियों को देने की सोची।

स्वयं से विचार विमर्श करके,
मनुष्य खुद को समझा देता है।
और कुछ क्षण के लिए जीवन को,
समुद्र सा शान्त कर देता है।

सम्पूर्ण जीवन काल में…
मनुष्य चिंताओं के बवण्डर में रहता है।
एक द्वंद सा…
सदैव उसके जीवन में स्वतः चलता रहता है।

ताज मोहम्मद
287 कनकहा मोहनलालगंज
लखनऊ-226301
मोबाइल नंबर-9455942244

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.