manibhainavratna

मनीभाई की भावनाएं

मनीभाई की भावनाएं


●●●●●●●●●●●●
हर जगह चुनौतियाँ हैं, क्यूँ ना चुनौतियों से वास्ता करें।
ये तो गलत है कि खानाबदोश की तरह हम रास्ता करें।
विरोध करें ,कभी विरोध सहें; ये सांसारिक नियति है ।
मतभेद होने से रूठके चले जाना ,नहीं कवि प्रकृति है।

मनीभाई

Please follow and like us:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page