KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

मुझे पता है – रामनाथ साहू ” ननकी

0 43

मुझे पता है – रामनाथ साहू ” ननकी

मुझे पता है ,
तू मेरा होकर भी मेरा नहीं है ।
हृदय पटल पर ज्ञात बसेरा नहीं है ।।
ये सिर्फ ढोंग ही है ऐ सनम् मेरे ।
तुमसे बेहतर कोई लुटेरा नहीं है ।।

मुझे पता है ,
कभी मिलन संभव नहीं होगा अपना ।
ये रिवायतें तोड़ देंगी हर सपना ।।
नहीं लाँघ सकते बनी लक्ष्मण रेखा ,
व्यर्थ लगे अब तक का वो नाम जपना ।।

मुझे पता है ,
तू सच नहीं बोल सकता जाने कभी ।
नाटक बातचीत गढ़े गये हैं अभी ।।
बात हकीकत नृत्य करती है लब पर ,
तुझे पता नहीं ये जानते हैं सभी ।।

मुझे पता है ,
मैं बेमंजिल ही बढ़ा जा रहा सनम ।
खुशी चैन देकर खरीदा सभी गम ।।
ये हँसी चेहरे की चमक कहती है ,
कभी नहीं सुधरेंगे बेहतर आलम ।।

मुझे पता है ,
ये प्यार नहीं है सब कुछ दिखावा है ।
लिप्त दोनों है नियोजित छलावा है ।।
कश्मकश में है मेरी बुझती साँसें ,
खुली कलई झूठा हर एक दावा है ।।

रामनाथ साहू ” ननकी मुरलीडीह ( छ. ग. )

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.