KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

ओ प्यारी ओ प्यारी

0 109

ओ प्यारी ओ प्यारी

ओ प्यारी , ओ प्यारी
जीत ली तुमने दिल हमारी ।
आ मिलकर प्यार करें हम
देखते रह जाए दुनिया सारी।
ओ प्यारी, ओ प्यारी
ना मैंने किसी से चाहा था ।
ना तुमने किसी से प्यार की।
मैं अभी तक कुंवारा हूं
तू अभी तक है कुंवारी।
ओ प्यारी, ओ प्यारी

चंदन जैसी खुश्बू ,पवित्र है गंगा जैसी तू ।
जिस गली से गुजरेगी वहां की हट जाए महामारी ।
ओ प्यारी, ओ प्यारी
मैं तो अभी तक जवां हूं ,है तू सुंदर कलियों जैसी।
मैं कितना मीठा हूं तू है कितनी खारी ।
आई एम सॉरी ओ प्यारी ओ प्यारी

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.