पखवाड़े में सिमटी हिंदी

पखवाड़े में सिमटी हिंदी

पखवाड़े में सिमटी हिंदी,
 बेबस और लाचार सी,
 अपनों से अपमान है सहती,
 अपनों को ही पुकारती।
 जो अपनी ही माता को,
 माता कहने से शरमाता हो,
 जो निज राष्ट्रभाषा को खुलकर,
 बोलने से कतराता हो,
आने वाली उनकी पीढ़ी,
 अस्तित्व को नहीं स्वीकारती।
अपनों से अपमान है सहती,
 अपनों को ही पुकारती।
 मैं जिनकी बोली जिनकी भाषा,
 उनको ही मेरा मान नहीं,
 सम्मान और अपमान का जिनको,
 लेश मात्र भी ज्ञान नहीं,
 ऐसे निर्लज्ज नपुंसक जन को,
 आज हुं मैं धिक्कारती।
 अपनों से अपमान है सहती,
 अपनों को ही पुकारती।
 स्वाभिमान गर लेश मात्र भी,
 बचा हो मेरे लाल तो सुन,
 रच- बस जा अपनी भाषा संग,
 बता जगत को इसके गुण,
 गुंजेगा धरती से नभ तक,
 जय जय जय मां भारती।
 अपनों से अपमान है सहती,
 अपनों को ही पुकारती।
                           रचना-सरोज कुमार झा।

(Visited 94 times, 1 visits today)

सरोज कुमार झा

सरोज कुमार झा। जन्म तिथि-५ मार्च १९७३, पिता का नाम-स्वर्गीय बचन झा, माता-श्रीमती अकाबरी देवी, ग्राम- पररी, जिला-सहरसा, बिहार, सम्प्रति - लौह नगरी जमशेदपुर में टाटा समूह में कार्यरत। पता- ब्लाक नं-१८१/२/४,रोड नं-३ आदित्यपुर-२, जमशेदपुर-१३। हिन्दी और मैथिली में कविताओं की रचना। मुख्यरूप से हास्य एवं व्यंग्य कविताएं।