KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

प्रेम अमर रत्न की – निकिता कुमारी

0 72

प्रेम अमर रत्न की
प्रेम अमर रत्न की ,
वो एक मुस्कुराहट है ,
जिस रत्न से हम सराबोर है ,
नभ की अभिकल्पनाओं में ,
जीवन तरंगित हुआ ,

मन पुलकित हुआ ,
मन द्रुम्लित हुआ ,
नेह नयनों की आभा ,
प्यार के फुल मे ,
दिल विस्मित हुआ !

– निकिता कुमारी
युवा कवयित्री एवं छात्रा
चैनपुर, सीवान, बिहार
पिन- 841203

Leave A Reply

Your email address will not be published.