श्रावण शुक्ल पूर्णिमा रक्षाबंधन Shravan Shukla Poornima Raksha Bandhan राखी rakhi

रक्षाबन्धन पर दोहे – बाबूलाल शर्मा, बौहरा

रक्षाबन्धन पर दोहे

श्रावण शुक्ल पूर्णिमा रक्षाबंधन Shravan Shukla Poornima Raksha Bandhan राखी rakhi
श्रावण शुक्ल पूर्णिमा रक्षाबंधन Shravan Shukla Poornima Raksha Bandhan


१.🌼
रिश्तों का  अनुबन्ध शुभ, रक्षा बन्धन पर्व।
सनातनी शुभ रीतियाँ, उत्तम संस्कृति गर्व।।
२.🌼
पूनम सावन  मास  में, राखी  का त्योहार।
भाई का  रक्षा  वचन, हर्षे  बहिन  अपार।।
३.🌼
विष्णु पत्नि लक्ष्मी शुभे, वे नारद मुनि रंग ।
बलि को राखी भेजकर, लाई  हरि हर संग।।
४.🌼
रीति सनातन काल से, बंधु बहिन का प्यार।
सांसारिक शुभ रीति यह, परिवारी व्यवहार।।
५.🌼
भक्त श्रवण को  पूजते, मान्य गेह प्रतिहार।
रक्षा  बन्धन  कर  करे, पूजा  मय  मनुहार।।
६.🌼
कर्मवती  मेवाड़  हित, भेजी    राखी  डोर।
लाज हुमायू कब रखी, चुभती बात कठोर।।
७.🌼
संग मने संस्कृत दिवस, राखी के दिनवार।
पावन  भादौ  मास  में , त्योहारी   मनुहार।।
८.🌼
खेत भरे मक्का हँसे, घर परिजन परिवार।
पावस ऋतु मनमौज है, राखी का त्योहार।।
९.🌼
बहन कहे अब रीति नव, सुन बीरा तू बात।
पहली राखी देश हित, सैनिक तरुवर तात।।
१०.🌼
भाई  जब  राखी  बँधे ,  ढाई  टप्पा  बात।
नवयुगीन नवरीतियाँ, प्राकृतहित सौगात।।
११.🌼
कृषक और मजदूर को, दें  राखी सौगात।
पकवानों की  मौज  हो, राखी संगत बात।।
१२.🌼
राखी डोर तिरंग शुभ, भारत माँ के चित्र।
उन देशों में भेज दें , जो भारत के  मित्र।।
१३.🌼.
राखी यमुना गंग की, सागर नर समुदाय।
चन्द्र सूर्य अंबर धरा, प्राकृत पानी  गाय।।
१४.🌼
राखी जननी तात की, बहिन भुवाएँ भ्रात।
प्रीति  रीतियाँ डोर शुभ, सनातनी सौगात।।
१५.🌼
पशुधन धरा किसानहित, दीन हीन बीमार।
बटुक फकीरा सन्त सब, राखी पर सत्कार।।
१६. 🌼
मानवता हित देश से , जिसको सच्ची प्रीत।
राखी बंधन कर उसे , मानो  निज मनमीत।।
१७.🌼
राखी बंधन प्रीत का, पावन सत्य प्रतीक।
रखिए तो राखी भली, नहीं रखे तो ठीक।।
१८.🌼
देश और  परदेश में,  हिन्दुस्तान  रिवाज।
जग में  राखी भेज दो, प्रीत रीत परवाज।।
१९. 🌼
सुनो  सभी से  अर्ज  है, साँझ सवेरे भोर।
देश सुरक्षा  हित  सभी, बाँधो  रक्षा  डोर।।
२०. 🌼
जड़ चेतन मय जीवजग, मानवीय हित मित्र।
राखी के  हकदार सब, आन मान शुभ चित्र।।
२१. 🌼
नित्य यहाँ  त्योहार  हो, सतत  मंगलाचार।
प्रेम  प्रीति सद्भावना, राखी भव  व्यवहार।।
२२.🌼
राखी की बातें अमित, कही सुनी हो माफ।
शर्मा बाबू लाल का, मन कहता सच साफ।।
.                    🌼🌼
✍©
बाबूलाल शर्मा, बौहरा, विज्ञ
सिकन्दरा, दौसा,

Please follow and like us:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page