ऋतुराज का आगमन

0 318

ऋतुराज का आगमन

ऋतुराज बसंत लेकर आये
वसंत पंचमी, शिवरात्रि और होली
आ रही पेड़ों के झुरमुट से
कोयल की वो मीठी  बोली ।


बौरों से लद रहे आम वृक्ष
है बिखर रही महुआ की गंध
नव कोपल से सज रहे वृक्ष
चल रही वसंती पवन मंद ।


पलाश व सेमल के लाल-लाल फूल
भँवरे मतवाले का मधुर गान
सौन्दर्य बिखेरती मौसम सुहावना
और बागों में फूलों की शान ।


राग बसंत  की  मधुर गीत
वसंतोत्सव, मदनोत्सव का खूमार
प्रकृति झूम उठती वसंत आगमन से
और हरियाली करती है श्रृंगार ।


✍बाँके बिहारी बरबीगहीया

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy