Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

रूह की बस्ती में बसा लिया

0 109

रूह की बस्ती में बसा लिया    

हम तुझे  छोड़  भी नहीं पाये, अलविदा  कहकर
दिल में तुम ही तुम हो, ख्वाबों-ख़यालों में रहकर
इब्तिसाम  तेरी  क़यामत, रह गयी  इन आँखों  में
भूलना   तो   चाहा   बहुत,   बेवफा   है   कहकर
हम तुझे छोड़ भी नहीं पाये…

CLICK & SUPPORT


ये शाम  और  ये शहर,  भाता  नहीं  अब  मुझको
जिन्दा हूँ  यादों के सहारे,  गुज़र जाने हैं  कहकर
इब्दिला   है   मेरी  के ,  इश्क़  कर   बैठा   तुझसे
सँवर जायेगी  ज़िन्दगी ,  खुशी – खुशी में कहकर
हम तुझे छोड़ भी नहीं पाये…


तक़ाज़ा उसकी चाहतों का, मिन्नतों में करता रहा
फासले कम न हुए उसके, दिलो दिमाग में रहकर
रूह की  बस्ती में  बसा लिया, मकाँ ए  गुलाब को
महकता रहे  जीवन उपवन,  काँटों बीच कहकर
हम तुझे छोड़ भी नहीं पाये…

जगत नरेश
बसना (छ.ग.)

Leave A Reply

Your email address will not be published.