KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

साक्षरता का अर्थ बताती कविता

प्रस्तुत हिंदी कविता का शीर्षक साक्षरता है जो कि साक्षरता का अर्थ बताती कविता हैं

0 1,275

प्रस्तुत हिंदी कविता का शीर्षक साक्षरता है जो कि साक्षरता का अर्थ बताती कविता हैं

साक्षरता का अर्थ बताती कविता

साक्षरता का अर्थ

‘साक्षरता ‘ जैसा अक्षर नहीं,
जिसका क्षरण सम्भव नहीं
सा से बना सामंजस्य,
क्ष से मिले क्षमता
र से करते रचना
ता से तारतम्यता।
जिसने वरण किया साक्षरता का गहना ,
उसे फिर सजना ही सजना ।
अलौकिक छबि का यह है आइना,
रूप दिखाये सुंदर सलोना ।
साक्षरता से आता संस्कार,
संस्कृति और सभ्यता का मिले उपहार ।
साक्षरता लाए उच्च विचार,
सुरभित हो जीवन, महके सदाचार ।
समय की है यही पुकार,
जिससे होगा सबका उद्धार ।
साक्षर बनाने में जुट जाएँ हम,
भारत के ललाट को दमकाए हम।

माला ‘पहल’ मुंबई

प्रधान संपादक की कलम से ,
हमें ख़ुशी है आपको हमारे द्वारा हिंदी कविता का संकलन पसंद आ रही है . हमारी भरपूर कोशिश होती है पाठकों के लिए दिवस , तिथि या विषय वस्तु पर केन्द्रित रचना प्रकाशित किया जा सके. और हिंदी साहित्य के लेखकों के लिए कोशिश होती है उनकी सामान्य रचना को भी प्रकाशित किया जाये, खास रूप से नवोदित साहित्यकार की रचनाएँ . यदि आपको हमारा काम पसंद आ रहा है तो हमें फॉलो करें :-
टेलीग्राम यूजर्स के लिए @telegramlink , ट्विटर यूजर्स के लिए @twitterlink ,
फेसबुक यूजर्स के लिए @facebooklink , व्हात्सप्प यूजर्स के लिए @WhatsApplink .

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.