Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

संभव क्यों नहीं कविता-विनोद सिल्ला

0 329

संभव क्यों नहीं कविता

CLICK & SUPPORT

कामना है
न हो कोई सरहद
न हो कोई बाधा
भाषाओं की
विविधताओं की
जाति-पांतियों की
सभी दिलों में बहे
एक-सी सरिता
सबके कानों में गूंजे
एक-से तराने
सबके कदम उठें
और करें तय
बीच के फांसले
यह सब
नहीं है असंभव
आदिकाल में था
ऐसा ही
फिर आज संभव
क्यों नहीं

No Comments
  1. Naresh Khokhar says

    Very Nice

Leave A Reply

Your email address will not be published.