KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

शिक्षक का ज्ञान – अकिल खान

शिक्षक का गुणगान कविता के माध्यम से किया गया है।

2 2,108

शिक्षक का ज्ञान

अशिक्षा रूपी अंधकार को करने दूर,
फूंँक दिए चहुँ दिशाओं में शिक्षा का सूर।
ज्ञान की दीपक से रोशन हुआ देखो सारा जहांँ,
अज्ञानता ने सोचा अब मैं जाऊंँ तो जाऊंँ कहांँ।
शिक्षा के प्रभाव से इंसान बना है महान।
है पवित्र-अनमोल दान,शिक्षक का ज्ञान।

शिक्षा से समाजिक कुरीतियों का करो दमन,
श्रेष्ठ शिक्षा से नहीं होता अधिकारों का हनन।
अब मिले शिक्षा सबको हर्षित है धरा-गगन,
शिक्षा का महिमा है अपार करो गहन-मनन।
मानव-उद्धार के लिए करो शिक्षा-दान,
है पवित्र-अनमोल दान,शिक्षक का ज्ञान।

5 सितम्बर को मनाओ शिक्षक दिवस – त्यौहार,
डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी का है ये उपकार।
शिक्षक है मानव समाज-राष्ट्र का निर्माता,
गुरू शिष्य को राष्ट्र रक्षा के लिए पुकारता।
मै नित करूं शिक्षक का सहृदय गुणगान,
है पवित्र-अनमोल दान, शिक्षक का ज्ञान।

विद्यार्थी में न कोई गरीब है न कोई अमीर,
सभी को दें समान शिक्षा शिक्षक का ज़मीर।
मजबूर-लाचारों को देते हैं शिक्षक-शिक्षा,
शिष्य करें उचित- अनुचित पर समीक्षा।
एक आदर्श विद्यार्थी है शिक्षक की शान,
है पवित्र-अनमोल दान,शिक्षक का ज्ञान।

जीवन रूपी नाव का शिक्षक है खिवैया,
सच्चा ज्ञान से पार कराते हमारी नैय्या।
मुश्किल घड़ी में कर स्मरण गुरू का उपदेश,
मिलती है शांति और समाप्त होते द्वेष-क्लेश।
मैं लेखनी से नित करूं गुरू का बखान,
है पवित्र-अनमोल दान,शिक्षक का ज्ञान।

अशिक्षित मानव स्वयं का करता विनाश,
ज्ञान की अज्ञानता से नित रहता हताश।
कहता है अकिल शिक्षा का अलख जगाओ,
राष्ट्र – रक्षा के लिए अशिक्षा को दूर भगाओ।
शिक्षा ने लाया आविष्कारों का तूफान,
है पवित्र-अनमोल दान,शिक्षक का ज्ञान।

अकिल खान रायगढ़ जिला – रायगढ़ (छ.ग.) पिन – 496440.

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.

2 Comments
  1. Vijay sahu says

    गजब यार 1 नंबर

    कैसे लिख लेता है भाई

  2. Jitendra Kumar says

    Very nice poem sir ji