KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

शिक्षक दीपक बन जले-माधुरी डड़सेना

0 139

शिक्षक दीपक बन जले

श्रीमत से कल्याण , दिये जगत को नित दिशा ।
शिक्षक नव निर्माण , दे समाज उपहार वह ।।

गुरु पद लेता भार , पथ दर्शक बनता वही।
करे स्वप्न साकार , वंदनीय शिक्षक सदा ।।

श्री गणेश शुरुआत , ज्ञा से ज्ञानी तक सफर ।
दिये श्रेष्ठ सौगात , शिक्षक दीपक बन जले ।।

राधा कृष्णन नाम , थे द्वितीय वह राष्ट्रपति ।
दी विशेष पहचान , पांच सितम्बर याद कर ।।

परम् गुप्त यह ज्ञान , परम् पिता शिक्षक बने ।
श्रेष्ठ लक्ष्य वरदान , आदि धर्म थापित करे ।।

गीली मिट्टी छात्र , सुगढ़ बनाते चित्र हैं ।
दे समाज शुचि पात्र , हितकर शिक्षक सर्वदा ।।

ब्रम्हा विष्णु महेश , परम् पिता साक्षात हो ।
जीवन पथ उपदेश , हो महान शिक्षक धरा ।।

धन्यवाद गुरु श्रेष्ठ , ज्ञान खजाना बाँटते ।
बना रहे पवि जेष्ठ , नमन चरण गुरुदेव को ।।

सदा विसर्जन केंद्र , सर्व सिद्धियाँ गुरु चरण ।
भाव छन्द शैलेंद्र , श्रीपद आराधन करूँ ।।

श्रीमत से कल्याण , दिये जगत को नित दिशा ।
शिक्षक नव निर्माण , दे समाज उपहार वह ।।

धन्यवाद गुरुदेव , परम मंत्र दाता प्रभो ।
हो आसीन स्वमेव , मणि मंजूषा माधुरी ।।

                     —–माधुरी डड़सेना “मुदिता”

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.