KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

तू यूं ना थम

प्रेरणादायक कविता – तू यूं ना थम

0 178

तू यूं ना थम

ये तेरी जगह नहीं ,कोई ऊंचा मुकाम तेरे लिए ।।
तू यूं ना थम , ढूंढ ले अपने निशान रे।।

छोटी-छोटी बातों में ,उलझा ना कर ,
नजरे हमेशा मंजिल पर रखा कर ,
बुरी कामना घेर लें तुझे, डाल खुद पे लगाम रे ।।

माना तुझे शोहरत मिले हैं ,
मनचाहा तुझे दौलत मिले हैं ,
यही नहीं सब कुछ, मत बन अनजान रे ।।

दुनिया पर डाले हैं जो हुकूमत,
कर रहे वो इसे खून से लथपथ
दुनिया को जरूरत तेरी , अपनी हिम्मत जान रे।
तू यूं ना थम……

Leave A Reply

Your email address will not be published.