KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

उसकी होंठ होठों में लाली

0 908

उसकी होंठ होठों में लाली

manibhainavratna
manibhai navratna

उसकी होंठ, होठों में लाली ।
उसकी आंखें, आंखों में काली ।
उसकी कान, कानों में बाली ।।
उसकी चाल, चाल मतवाली ।।
रात दिन तड़पा हूं मैं
करता रहा उसको फरियाद ।
अब ना पीर सहा जाए
करके उसका याद ।।

ढूंढा करता हूं मैं उसे
हर चौराहे हर गली।

तारीफें करें क्या उनकी
वो तो थी कुछ नई।
देख होश उड़ा करते थे
दिल दे बैठे कई।
शायद इसलिए लिए तू न मिली
सचमुच तू थी फुलझड़ी ।

गुम हो गई तुम हमसे
जिस रात को थी दीवाली।
वो चली गई दूर हमसे
फिर भी दिल में यादें हैं ।
शौक ए दिल में सनम
गूंजती तेरी हर बातें हैं ।
सचमुच यह जिंदगी है
एक अजीब सी पहेली।।

मनीभाई नवरत्न

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.