Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

वर्षा जैन “प्रखर- एक नया ख्वाब सजायें

233

एक नया ख्वाब सजायें


सपने कभी सुनहले कभी धुंधले से
आँखों के रुपहले पर्दे पर चमकते से
बुन कर उम्मीदों के ताने बाने
हम सजाते जाते हैं सपने सुहाने

कनकनी होती है तासीर इनकी
मुक्कमल नहीं होती हर तस्वीर जिनकी
सपनों को नही मिल पाता आकार
मन के गर्त में रहते हैं वो निराकार

टूटते सपनों की तो बात ही छोड़िये जनाब
जिन्हें फिर से समेटना भी है एक ख्वाब
बहने वाले हर आँसू को सहेजना मुमकिन नहीं
टूटे सपनों को फ़िर से संजोना मुमकिन नहीं

CLICK & SUPPORT

फूल तो फिर भी मुरझा कर
बन बीज धरा में मिल जाते हैं
अपने जैसे सुमन को फिर से उपजाते हैं
टूटे सपनों को कैसे समेटुं
कांच कहाँ फिर से जुड़ पाते हैं

आँखों के बहते हर आँसू में 
टूटे सपनों की मिलावट होती है
काश वो सपने ही ना पलें आँखों में 
जिनकी नियति ही टूटने में होती है

कभी धन की कमी, कभी शरीर निर्बल
अपनों ने दिया धोखा, कभी मन हो गया शिथिल
धराशायी हो जाते हैं तब सपने
जब उनको नहीं मिल पाता कोई क्षितिज

आओ मिलकर एक नया ख्वाब सजायें
मुकम्मल सा इक जहाँ बनायें
मेरे सपनों को तुम सँवार देना
तुम्हारे ख्वाबों को मै सहेज दूँगी
आओ मिलकर एक नया ख्वाब सजायें
•••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••
वर्षा जैन “प्रखर”
दुर्ग (छत्तीसगढ़)
कविता बहार से जुड़ने के लिये धन्यवाद

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.