KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

जल संकट पर रचना

सरिता दूषित हो रही,
व्यथा जीव की अनकही,
संकट की भारी घड़ी।
***
नीर-स्रोत कम हो रहे,
कैसे खेती ये सहे,
आज समस्या ये बड़ी।
***
तरसै सब प्राणी नमी,
पानी की भारी कमी,
मुँह बाये है अब खड़ी।
***
पर्यावरण उदास है,
वन का भारी ह्रास है,
भावी विपदा की झड़ी।
***
जल-संचय पर नीति नहिं,
इससे कुछ भी प्रीति नहिं,
सबको अपनी ही पड़ी।
***
चेते यदि हम अब नहीं,
ठौर हमें ना तब कहीं,
दुःखों की आगे कड़ी।
***
नहीं भरोसा अब करें,
जल-संरक्षण सब करें,
सरकारें सारी सड़ी।
***
बासुदेव अग्रवाल ‘नमन’
तिनसुकिया
29-05-19