KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR
Monthly Archives

मई 2019

कविता मेरी ऐसी हो(kavita meri aisi ho)

कविता मेरी  ऐसी हो जिसमें हो कोई संदेश ।संतों की वाणी हो जिसमें गीता का उपदेश ।गौतम हो गुरू नानक हो हो उनकी गुरु वाणी गंगा जल की पवित्रता हो महानदी का…

जीवन की है परिभाषा कविता(poetry is the definition of life)

अक्षर अक्षर भावों से  गुंजित कल्पना की मिठास है कविता कवि मन की मर्म अभिव्यंजना मृदु निर्झरित एहसास है कविता lसुख दुख से परिपूर्ण जीवन की शब्द शक्ति…

कविता क्या है? (What’s poetry)

कम शब्दों में अधिक वर्णनकविता हैठेस लगी तो दुख का वर्णनकविता हैभावनाओं का आकर्षक वर्णनकविता हैशब्दों का तरंगित होनाकविता हैशब्दों का रोद्र हो…

करना हो तो काम बहुत हैं(There are so many things to do)

नेकी के तो धाम बहुत हैंकरना हो तो काम बहुत हैं।सोच समझ रखे जो बेहतरउनके अपने नाम बहुत हैं।प्रेम रंग गहरा होता हैरंगों के आयाम बहुत हैं।गुण सम्पन्न…

23 मई 19कासभी को इंतजार (Rajkumaar Mashkhare)

23 मई 19 के परिणाम काहै सभी को बेसब्री से इंतजार !नेता जी के रक्तचाप बढ़ेमतदाता भी है बेकरार !क्या खूब पिलाया,है खिलायाबाँटे हैं रूपये लाखो हजार…

मनीभाई नवरत्न द्वारा रचित “हाथ फैलाते पथ पर” (hath…

दर-दर दोपहरहाथ फैलाते पथ पर ।कहीं झिड़कियां,कहीं ठोकर।बेबस बेचारगी झलकेसहज मुख पर।दो पैसे का जुगाड़ बिन,कैसे जायें घर पर?दर-दर दोपहरहाथ फैलाते पथ पर …

एक चांद, मेरे चांद से , आज क्यों नाराज है(manibhai navratna)

एक चांद, मेरे चांद से , आज क्यों नाराज है ?जरूर आज उसका, मेरे चांद से कम साज है।शरमा के छुपा वो काला बादल का दुपट्टा ले,उसे मेरे चांद के आगे आने में…

पूनम दुबे द्वारा रचित “हमारी भाग्य विधाता…

ना शब्द है ना कोई बात,जो मां के लिए लिख पाऊं,उसके चरणों में मैं,नित-नित शीश झुकाऊं,जग जननी है मां,हमारी भाग्य विधाता मां।गीली माटी की तरह ,वो हमको…

युगलकिशोर पटेल द्वारा रचित “समय -देवता”(samay…

देव,दनुज,नाग,नर,यक्ष,सभीनित मेरी महिमा गाते हैं।सत्ता सबसे ऊपर मेरी,सब सादर सीस झुकाते हैं।।1देव मैं महान शक्तिशाली,हूँ अजर,अमर,अविनाशी मैं।सर्वत्र…