मन हो रहा हताश – बाबूलाल शर्मा

✨✨✨✨✨✨✨✨✨✨~~~~~~~~~~~~बाबूलालशर्मा, विज्ञ. ✨ *मन हो रहा हताश* ✨. (सोरठा छंद). ✨✨१✨✨हम ही दुश्मन मीत, अपनी भाषा के बने।बस बड़ बोले गीत, सोच फिरंगी मन वही।।. ✨✨२✨✨बदलें फिर संसार, निज की…

0 Comments

हिंदी छा जाए दुनिया में – उपमेंद्र सक्सेना

हिंदी छा जाए दुनिया में गीत-उपमेंद्र सक्सेना एडवोकेट जिससे हैं हम जुड़े जन्म से, वही हमारी प्यारी भाषा,हिंदी छा जाए दुनिया में, पूरी हो अपनी अभिलाषा।अपनी भाषा के हित में…

0 Comments

संवाद पर कविता – सुकमोती चौहान रुचि

संवादतुमसे कर संवाद, सुकूं मन को मिलता है |मधुर लगे हर भाष्य, सुमन मन में खिलता है |कर्णप्रिय हर बात, प्रेरणा देती हरदम | करके जिसको याद, दूर हो जाती…

0 Comments

माँ का मन शुचि गंगाजल है –  बाबूराम सिंह

कविता  माँ का मन शुचि गंगाजल है--------------------------------------     सकल जगत की धोती मल है।माँ का मन सुचि  गंगाजल  है।।हित - मित   संसार  में   स्वार्थ,भ्राता,पत्नि  के प्यार में स्वार्थ।बेटा - बेटी …

0 Comments

माता है अनमोल रतन – बाबूराम सिंह

माता है अनमोल रतन स्वांस-स्वांस में माँहै समाई,सदगुरुओं की माँ गुरूताई।श्रध्दा भाव से करो जतन,माता है अनमोल रतन।।अमृत है माता की वानी, माँ आशीश है सोना -चानी।माँ से बडा़ ना…

0 Comments

हिंदी पर कविता – मदन सिंह शेखावत

कुण्डलिया हिंदीहिंदी बोली देश की,बहुत मधुर मन मस्त ।इसे सभी अपना रहे , करे विदेशी पस्त।करे विदेशी पस्त , राष्ट्र भाषा का दर्जा।करे सभी अब काम , उतारे माँ का…

0 Comments

इस वसुधा पर इन्सान वहीं – बाबूराम सिंह

कविता इस वसुधा पर इन्सान वहीं ----------------------------------------धन,वैभव,पदविद्या आदिका जिसको हैअभियाननहीं। सत्य अनुपम शरणागत इस वसुधा पर इन्सान वहीं। सत्य धर्म फैलाने आला, विषय पीकर मुस्काने वाला, अबला अनाथ उठाने वाला,…

0 Comments

राष्ट्र भाषा हिन्दी – बाबूराम सिंह

14 सितम्बर-2022 हिन्दी दिवस पर विशेष राष्ट्र भाषा हिन्दी - बाबूराम सिंह सर्वश्रेष्ठ सर्वोपरि सुखद सलोना शुभ,सरल सरस शुचितम सुख कारी है।भव्य भाव भूषित भारत भरम भरोस,निज अंक भरे जन-जन…

0 Comments

मातृभाषा हिंदी – बाबूलाल शर्मा

मातृभाषा हिंदी हिन्दी भारत देश में, भाषा मातृ समान। सुन्दर भाषा लिपि सुघड़, देव नागरी मान।।आदि मात संस्कृत शुभे, हिंदी सेतु समान।अंग्रेजी सौतन बनी , अंतरमन पहचान।।हिन्दी की बेटी बनी,…

0 Comments

राम को खेलावत कौशिल्या रानी – बाबूराम सिंह

श्रीराम जन्म """"""""""""""""""""""""""""राम को खेलावत कौशिल्या रानी"""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""चैत शुक्ल नवमी को पावन अयोध्या में ,मध्य दिवस प्रगटाये रामचनद्र ज्ञानी।सुन्दर सुकोमल दशरथ नृपति -सुत ,भव्यसुख शान्ति सत्य सिन्धुछवि खानी।जिनके दर्शन हेतु तरसता…

0 Comments