Browsing Category

प्रार्थना

वाणी वन्दना

वाणी वन्दना   निर्मल करके तन_ मन सारा,   सकल विकार मिटा दो माँ,    बुरा न कहे माँ किसी को भी    विनय यह स्वीकारो  माँ।      अन्दर  ऐसी ज्योति जगाओ      हर  जन का   उपकार करें,       मुझसे यदि त्रुटि कुछ हो जाय       उनसे मुक्ति दिलाओ …

सरस्वती वन्दना

सरस्वती वन्दनाविनती करता हूँ शारदे माता,विद्या का हमको वरदान दे  दे।हम झुके तेरे चरणों में निशदिन,तेरा आसरा हम सबको दे दे।विनती---------हर वाणी में सरगम है तेरा ,तू हमें स्वर का राग सिखा दे।हर गीत बन जाए धड़कन,नृत्य पे सुर लय ताल मिला…

भजन

**************************************ओ मोरे घनश्याम साँवरेओ मोरे घनश्याम साँवरेबिन दर्शन हम हो गए बावरेबिन दर्शन हम हो गए बावरेमोरे घनश्याम ओ मोरे श्यामओ मेरे....दूखन लागे हमरे नैनातुम बिन कान्हा अब नहीं चैनादिन गुज़रे न कटती रैनासुबह से हो…

हे मां शारदे

हे मां शारदेरोशनी  दे ज्ञान कीतू  तो ज्ञान का भंडार हैहाथों में वीणा पुस्तक हंस वाहनी ,कमल धारणीओ ममतामयी मांइतनी कृपा मुझ पर करनामैं सदाचारी बनूंसत्य पथ पर ही चलूंविरोध क्यूं अन्याय कामुस्किलों में भी न घबराओहे मां शारदेदूर कर अज्ञानताउर…

सरस्वती –वन्दना

सरस्वती --वन्दनाजनप्रिय माँ जनोपकारणीजग जननी, जल जीवधारणी।स्वर्णिम ,श्वेत, धवल साडी़ मेंचंचल, चपल,चकोर चक्षुचारणी।ज्ञानवान सारा जग करती माँअंधकार, अज्ञान सदैव हारणी विद्या से करती,जग जगमगगुह्यज्ञान,गेय,गीत,  गायनी।सर्व सुसज्जित श्रेष्ठ…

जय जय वरदानी

सुप्रभात वंदन ======================================जयति मातु जय जय वरदानी। सब जग पूजे मुनि जन ज्ञानी।। नित नित ध्यान करूँ मैं माता। तुम सब जन की भाग्य विधाता।। मातु ज्ञान की तुम हो सागर। जगत ज्ञान से करो उजागर।।सदा मातु बसना तुम वाणी। जय…

नव सुर-दात्री

प्रार्थनानव सुर-दात्री,नव लय-दात्रीनव - गान मयी,नव तान - मयी।       देवी मैं हूँ  अति अज्ञानी       नहीं है जग में   तुमसा  दानी        माँ! दान दो नव अक्षरो  का       माँ दान दो नवलय  स्वरो काजग- सृष्टा की मानस - कन्याबुद्धि दाता  न…