KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR
Browsing Tag

@कार्तिक कृष्ण चतुर्थी करवाचौथ पर हिंदी कविता

कार्तिक कृष्ण चतुर्थी करवाचौथ : करवाचौथ पर सुहागिन महिलाएं अपनी पति की दीर्घायु की कामना करती हैं। करवाचौथ के इस व्रत को करक चतुर्थी, दशरथ चतुर्थी, संकष्टि चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन करवा माता के साथ मां पार्वती, भगवान शिव और गणेश जी की पूजा करने का भी विधान है। इस दिन सुहागिन स्त्रियों को इस व्रत का वर्ष भर इंतजार रहता है।

जय करवा मइया – डी कुमार अजस्र

प्रस्तुत हिंदी गीत जय करवा मइया डी कुमार-- अजस्र (दुर्गेश मेघवाल बूंदी राजस्थान) द्वारा करवा चौथ पर्व पर विशेष प्रस्तुति के रूप में स्वरचित गीत है ।
Read More...

करवा चौथ व्रत पर नारी चिंतन

करवा चौथ व्रत पर नारी चिंतन कार्तिक कृष्ण चतुर्थी करवाचौथ Karthik Krishna Chaturthi Karvachauth शम्भु प्रिया हे उमा भवानी।छटा तुम्हारी शिवा सुहानी।।करवा चौथ मात व्रत मेरा।करती पूजन गौरी तेरा।।१चंदा दर्श पिया सन करना।मात कामना मम मन धरना।।रहे अटल अहिवात हमारा।मिले सदा आशीष तुम्हारा।।२पति जीवन हित जीवन अपना।परिजन सुख चाहत नित सपना।।रहे दीर्घ…
Read More...

सौभाग्य पर्व – करवा चौथ

करवा चौथ करवा चौथ के व्रत का वह पल , बड़ा सुहाना लगता है ।जमीं के चांद का आसमान के चांद से मिलने का पल , बड़ा सुहाना लगता है।पति प्रेम से लिप्त यह व्रत , मन को लुभाना लगता है।करवा चौथ के व्रत का वह पल , बड़ा सुहाना लगता है।किए सोलह श्रृंगार नारियां जब छतों में आती हैं ,चांद को देखने का वह पल , बड़ा सुहाना लगता है।हाथों में मेहंदी , आंखो पे…
Read More...

सबको चांद का दीदार चाहिए

सबको चांद का दीदार चाहिए… मुझे तो मेरा चांद पास मिला है।ये वो  नहीं जो आसमान का है…ये नक्षत्र तो मेरे दिल में खिला है।तू चांद देख जानम..और अपना व्रत तोड़ ले।मैं ना छोड़ूँ  ये व्रत , चाहे सारा जग छोड़ दे।तेरे साथ रहना माहियाबस यही कहना माहियातेरे साथ रहना..।तेरे संग चलना माहियाबस यही कहना माहियातेरे साथ रहना..।इस दुपट्टे की लाल में प्यार की गहराई…
Read More...

चांद का साया-शिवराज चौहान

चांद का साया ए चांद दीखता है तुझमें, मुझे मेरे चांद का साया है।हुआ दीदार जो तेरा तो ये चांद भी अब मुस्काया है।। सदा सुहागन चाहत दिल में, पति हित उपवास किया मैंने।जीवन भर साजन संग पाऊं, मन…
Read More...

करवा चौथ-डॉ.सुचिता अग्रवाल सुचिसंदीप

करवा चौथ कार्तिक चौथ घड़ी शुभ आयी। सकल सुहागन मन हरसायी।।पर्व पिया हित सभी मनाती। चंद्रोदय उपवास निभाती।। करवे की महत्ता है भारी। सज-धज कर पूजे हर नारी।।सदा सुहागन का वर हिय में। ईश्वर दिखते अपने पिय में।। जीवनधन पिय को ही माना। जनम-जनम तक साथ निभाना।।कर सौलह श्रृंगार लुभाती। बाधाओं को दूर भगाती।। माँग भरी सिंदूर बताती। पिया हमारा ताज…
Read More...

करवा चौथ-महेन्द्र देवांगन माटी

करवा चौथ ( सरसी छंद) आज सजी है देखो नारी, कर सोलह श्रृंगार । करे आरती पूजा करके , पाने पति का प्यार ।। पायल बाजे रुनझुन रुनझुन , बिन्दी चमके माथ । मंगलसूत्र गले में पहने , लगे मेंहदी हाथ ।। करवा चौथ लगे मन भावन, आये बारम्बार । आज सजी है देखो नारी, कर सोलह श्रृंगार ।। रहे…
Read More...

करवा मइया-दुर्गेश मेघवाल

करवा मइया मइया करवा मइया ,मइया करवा मइया । करवा मइया तेरी मेहरबानी रहे ,मेरे सजना की जीवन रवानी रहे । सात फेरों के थे जो वचन वो ,मिलके निभते रहे, तेरी जय हो ।मांग सिंदूर भरे,जीवन संग-संग चले ।मेरी धड़कन उन्हीं की दीवानी रहे ।दीवानी रहे…मइया करवा मइयाकरवा मइया…
Read More...

हूँ करवा मैं

हूँ करवा मैं मेरे चाँद मेंबहत्तर हैं छेदहूँ करवा मैंपति की बढ़े उम्रहों दीर्घजीवीजब भी वो चेतेंगेदेख के त्यागबनेंगे पत्नीव्रताखुलेगा भाग्यमेरा मेरे बच्चों काहोगा उद्धारसंवरेगा संसारमिलेगा प्यारकरवा चौथ व्रतहोगा सफलचांद मेरा धवलयही मेरा संबल।। भावुक
Read More...