हिन्दी कविता: सीसीई (सतत् व्यापक मूल्यांकन) – मनीभाई नवरत्न

सीसीई को बना लो , साथियों अपनी दिनचर्या ।
तभी तो साकार होगी अपनी राष्ट्रीय पाठ्यचर्या।
अब नहीं परीक्षा का भय, नहीं है रटने पर जोर।
मार्ग खुला सृजन, चिंतन, निर्णय,तर्क की ओर।
तीन घंटे में भाग्य फैसला, लगता था अन्याय ।
प्रश्न पत्र के एक सांचे में , प्रतिभा ढलने ना पाय।
अब बच्चों को सीखने को,मिले समुचित अवसर।
शिक्षक जानेगा कौन मंदबुद्धि और कौन है प्रखर?
मूल्यांकन हो गई है और व्यापक और लगातार।
अब यही बनेगी समाज के नव निर्माण का आधार।
जिम्मेदारी बढ़ी, बदलना होगा आज नहीं तो कल।
हर छात्र का स्तर की खबर ,जाननी होगी पल पल।
निरंतर सुधार होगा , बच्चों के सतत आकलन से ।
रही सही समझ भी पूरी हो जाएगी , पुनर्बलन से ।
जानेंगे रचनात्मक आकलन से ,सीखने की प्रगति ।
योगात्मक, उपचारात्मक के बाद होगी कक्षोन्नति।
गलत प्रतिस्पर्धा रोकने हेतु आई है ग्रेडिंग प्रणाली।
बाल निहित कौशल परखेगी,अब हमारी प्रश्नावली ।
गीत कहानी अभिनय से, जाने सहशैक्षिक गुण को ।
स्व मूल्यांकन से झलके ,व्यक्तिगत सामाजिक गुण को।
परीक्षा से होती थी बच्चों में , पढ़ाई का तनाव ।
अब शिक्षक जानेगा गतिविधि से ,सीखने का भाव ।
खुलीपुस्तक पोर्टफोलियो से खुशबू फैलेगी ज्ञान की।
सर्वे प्रोजेक्ट,प्रदत्त कार्य से समझ बनेगी विज्ञान की।
अब होगी शाला में, होगी चमत्कार पर चमत्कार।
लागू है जब निशुल्क व अनिवार्य शिक्षा का अधिकार।

(Visited 3 times, 1 visits today)

मनीभाई नवरत्न

छत्तीसगढ़ प्रदेश के महासमुंद जिले के अंतर्गत बसना क्षेत्र फुलझर राज अंचल में भौंरादादर नाम का एक छोटा सा गाँव है जहाँ पर 28 अक्टूबर 1986 को मनीलाल पटेल जी का जन्म हुआ। दो भाईयों में आप सबसे छोटे हैं । आपके पिता का नाम श्री नित्यानंद पटेल जो कि संगीत के शौकीन हैं, उसका असर आपके जीवन पर पड़ा । आप कक्षा दसवीं से गीत लिखना शुरू किये । माँ का नाम श्रीमती द्रोपदी पटेल है । बड़े भाई का नाम छबिलाल पटेल है। आपकी प्रारम्भिक शिक्षा ग्राम में ही हुई। उच्च शिक्षा निकटस्थ ग्राम लंबर से पूर्ण किया। महासमुंद में डी एड करने के बाद आप सतत शिक्षा कार्य से जुड़े हुए हैं। आपका विवाह 25 वर्ष में श्रीमती मीना पटेल से हुआ । आपके दो संतान हैं। पुत्री का नाम जानसी और पुत्र का नाम जीवंश पटेल है। संपादक कविता बहार बसना, महासमुंद, छत्तीसगढ़

प्रातिक्रिया दे