KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

महाभारत के पात्रों पर दोहा

यदि “महाभारत” को पढ़ने का समय न हो , तो भी इसके दस सार-सूत्र हमारे जीवन में उपयोगी सिद्ध हो सकते हैं.

0 2,196

महाभारत के पात्रों पर दोहा


1.कौरव ◆
अनुचित हठ अंकुश करें, संतानों की आप।
कौरव सम असहाय हो, हठी पुत्र अभिशाप।।

2. कर्ण ◆
अस्त्र शस्त्र विद्या धनी, खड़े अधर्मी साथ।
निष्फल सब वरदान हों, शक्ति रहित दो हाथ।।

3. अश्वत्थामा ◆
विद्या बल करने लगे, शाश्वत जग का नाश।
चाह असंगत पुत्र की, बाँध ब्रह्मा के पाश।।

4. भीष्म पितामह ◆
भीष्म प्रतिज्ञा कीजिये,सोच धर्महित ज्ञान।
वरन अधर्मी पग तले, सहन करो अपमान।।

5. दुर्योधन ◆
शक्ति राज्य अरु संपदा, दुराचार सह भोग।
स्वयं नाश दर्शन करे, यही नियत संयोग।।

6. धृतराष्ट्र ◆
नेत्रहीन के हाथ में, मुद्रा मदिरा मोह।
सर्वनाश निश्चित करे, सत्ता काया खोह।।

7.अर्जुन ◆
चंचल मन विद्या रखें, बाँध बुद्धि की डोर।
विजय सदा गांडीव दे, जयकारे चहुँओर।।

8. शकुनि ◆
द्वेष कपट छल छोड़िए, कूटनीति की दाँव।
सफल सुखद संभव कहाँं, शूल वृक्ष की छाँव।।

9. युधिष्ठिर ◆
धर्म कर्म पथ में रहें, पालन प्रतिपल नाथ।
अविजित जग में धर्म है, विजय तुम्हारे हाथ।।

10. श्री कृष्ण ◆
धर्म न्याय संगत रहें, सोच प्रथम परमार्थ।
चक्र सुदर्शन थाम कर, करें कर्म चरितार्थ।।

Leave a comment