KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

ओ सजनी चली आ मेरे द्वार

0 93

ओ सजनी चली आ मेरे द्वार

मेघ ने गाई है मल्हार ,
सावन की आई है बहार।

रह ना जाये अधूरा मेरा प्यार,
ओ सजनी, चली आ चली आ मेरे द्वार।

कोयल कूके , मन हिलोरे खाये जाये।
बार बार राह निहारुं, अब तो आ जाये।
खबर लूं तेरे, अब तो दरस दें एक बार।
ओ सजनी, चली आ चली आ मेरे द्वार।

बसंत ने मारी पिचकारी, लगा प्रेम का रंग।
चाल मेरी मतवाली हुई, पी गया कैसा भंग।
छोड़ दूं मैं रीत जग की, तोड़ सारी दीवार।
ओ सजनी, चली आ चली आ मेरे द्वार।

  • मनीभाई नवरत्न
You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.