#हरिश्चंद्र त्रिपाठी

यहाँ पर हिन्दी कवि/ कवयित्री आदर० हरिश्चंद्र त्रिपाठी ‘हरीश’ के हिंदी कविताओं का संकलन किया गया है . आप कविता बहार शब्दों का श्रृंगार हिंदी कविताओं का संग्रह में लेखक के रूप में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा किये हैं .

Kids poem on fruits

कभी न तोड़ो कच्चे फल

कभी न तोड़ो कच्चे फल बात पते की सुन लो मेरी,फल खाना है बहुत जरूरी।1। सुन्दर ,स्वस्थ,निरोग रहें हम,सारे सुख का भोग करें हम।2। आम,सन्तरा,काजू खाओ,बाबू,भोले,राजू आओ।3। प्रोटीन,विटामिन सब पाये,अनन्नास,अंगूर जो खाये ।4। कुछ मौसम कुछ बारहमासी,रखे,कटे मत खाओ बासी।5। जामुन,सेब,पपीता खाओ,पास डॉक्टर के मत जाओ।6। खरबूजा,तरबूज,अनार ,खा अमरूद न हो बीमार।7। बच्चों सुन लो …

कभी न तोड़ो कच्चे फल Read More »

holi

होली सम्बन्धी दोहे- हरीश

हृदय-उद्गार–होली सम्बन्धी दोहे —————————————- दिया संस्कृति ने हमें,अति उत्तम उपहार,इन्द्रधनुष सपने सजे,रंगों का त्यौहार।1। नव पलाश के फूल ज्यों,सुन्दर गोरे अंग,ढ़ोल-मंजीरा थाप पर,थिरके बाल-अनंग।2। मलयज को ले अंक में,उड़े अबीर-गुलाल,पन्थ नवोढ़ा देखती,हिय में शूल मलाल।3। कसक पिया के मिलन की,सजनी अति बेहाल,सराबोर रंग से करे,मसले गोरे गाल।4। लुक-छिप बॉहों में भरे,धरे होंठ पर होंठ,ऑखों की …

होली सम्बन्धी दोहे- हरीश Read More »

नव वर्ष की शुभकामना

नववर्ष 2022 पर हिंदी कविता

इस वर्ष नववर्ष 2022 पर कविता बहार द्वारा निम्न हिंदी कविता संकलित की गयी हैं आपको कौन सा अच्छा लगा कमेंट कर जरुर बताएं नववर्ष की हार्दिक बधाई : महदीप जँघेल निशिदिन सुख शांति की उषा हो,न शत्रुता, न ही हो लड़ाई।प्रेम दया करुणा का सदभाव रहे,सबको नववर्ष की हार्दिक बधाई। विश्व बंधुत्व की भावना …

नववर्ष 2022 पर हिंदी कविता Read More »

30 अक्टूबर विश्व बचत दिवस 30 October - World Savings Day

30 अक्टूबर विश्व बचत दिवस : पैसों की महत्व पर हिंदी कविता

यहाँ पर 30 अक्टूबर विश्व बचत दिवस पर हिंदी कविता दी जा रही है आपको कौन सी कविता अच्छी लगी कमेंट करके बताएं 30 अक्टूबर विश्व बचत दिवस : पैसों की महत्व पर हिंदी कविता पैसों की बचत पर बेहतरीन दोहे पढ़ लिख कर हम योग्य बन, करें कमाई नेक, अपनों से ऊपर उठ सोचें,परहित …

30 अक्टूबर विश्व बचत दिवस : पैसों की महत्व पर हिंदी कविता Read More »

HINDI KAVITA || हिंदी कविता

हरिश्चन्द्र त्रिपाठी ‘हरीश ‘ की कवितायेँ

प्रस्तुत कविता 14 सितंबर हिंदी दिवस पर लिखी गई है जिसमें हिंदी की महत्व का वर्णन किया गया है।

You cannot copy content of this page